मजदूर दिवस मजदूरों ने भरा हुंकार कहा सिर्फ टीका नही टाका और राशन भी देना होगा।

प्रकाशनार्थ

रांची 1मई 2021
अंतराष्ट्रीय मजदुर दिवस दुनिया के मज़दूरों की एकता अधिकार और सम्मान का प्रतीक है। केंद्र और राज्य की सरकारें मज़दूरों से ज्यादा कंपनियो के लिए ज्यादा चिंतित है। जिस तरह से 44 श्रम कानूनों को खत्म कर चार लेबर कोड बनाया गया यह देश के मजदूरों के अधिकारों पर हमला है। उपरोक्त बातें एक्टू के प्रदेश महासचिव शुभेंदू सेन ने कही। उन्होने चेतावनी के लहजे में कहा की उत्पादन की मुख्य ताकत की उपेक्षा केंद्र सरकार को महंगा पड़ेगा।

निमार्ण मजदूर यूनियन के प्रदेश महासचिव भुवानेश्वरकेवटने कहा की कोरोना आपदा के दौर में मजदूरों को राहत देने के बजाय उनके अधिकारों को छीनने का काम किया जा रहा है कंपनियों को प्रोत्साहन पैकेज और कोरोना फ्रंटलाइन कर्मियो और मज़दूरों को बारह घंटे काम का बोझ मजदूरों के साथ बेमनी है।
केंद्र सरकार देश में कंपनी राज थोपने की साजिश कर।रही है जिसका कड़ा विरोध किया जाएगा केंद्र सरकार 18वर्ष के ऊपर के मजदूरों को सिर्फ टीका नही टाका और राशन भी देना होगा। कोरोणा आपदा ने सभी सरकारो के विकास की पोल खोल दी है सभी तैयारियां आग लगने पर कुआं खोदने जैसी है।केंद्र सरकार कोरोना फ्रंटलाइन कर्मियो को बीमा और विशेष भत्ता का भुगतान करें अन्यथा सरकारको मजदूरोंके भारीबिरोध का सामना कराना होगा। कार्यक्रम के पूर्व मई दिवस के शहीद मज़दूरों को आज जिला स्कूल के मैदान में सभा अयोजित कर एक मिनट का मौन श्रद्धांजलि अर्पित किया गया। तत्पश्चात गगणभेदी नारों के साथ लड़ेंगे जीतेगें का संकल्प दुहराया गया। मई दिवस कार्यक्रम में मजदुर नेता जगरनाथ उरांव, अकाश रंजन , रामकुमार लोहारा, नोरिन अख्तर , राजेंद्र दास , शांति सेन,अमानत गद्दी, रूपलाल पंडित नाजिया खातून आदि मुख्य रूप से उपस्थिति थे

 1,978 total views,  4 views today