माले ने डॉo निर्मल मिंज और रूपा तिर्की को दिया श्रृद्धांजलि ।

प्रकाशनार्थ
रांची 7 मई 2021
माले ने डॉo निर्मल मिंज और रूपा तिर्की को दिया श्रृद्धांजलि ।
डॉo निर्मल मिंज झारखंडी समाज के सिद्धांतकार और निर्माता थे _माले
शिक्षाविद और झारखंड आंदोलन के बौद्धिक अगूवा डॉ निर्मल मिंज एवं आदीवासी बेटी रूपा तिर्की को भाकपा माले रांची नगर कमेटी ने आज पार्टी राज कार्यालय में भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित किया। दो मिनट की मौन धारण के बाद सर्वप्रथम राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद ने डॉक्टर मिंज की तसवीर पर माल्यार्पण किया।

श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए माले केन्द्रीय कमिटी सदस्य शुभेंदु सेन ने कहा की डॉक्टर निर्मल मिंज सिर्फ विशप नही बल्कि आसिवासी सामाज में वाम प्रगतिशील विचार के भी वाहक थे। वे सिर्फ आदीवासी नहीं बल्कि झारखण्डी सामाज के सिद्धांतकार और निर्माता थे।

झारखंड आंदोलन को वे हमेशा अपनी कुशाग्र बुद्धि से एक रणनीतकार के रूप में सींचते रहे। भाकपा माले ने मांग की है की राजधानी रांची के किसी एक शैक्षणिक संस्थान का नामकरण डॉ निर्मल मिंज के नाम से किया जाय । कामरेड सेन ने रातु की आदीवासी बेटी रूपा तिर्की के हत्यारों को शिनाख्त कर अविलंब गिरफ्तार करने की मांग की।

अपने संबोधन में जन संस्कृति मंच के अध्यक्ष जेवियर कुजूर ने कहा कि झारखण्डी भाषा, साहित्य और संस्कृति को स्थापित करने में डॉo निर्मल मिंज की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वे 1970 के दशक में तरंग भारती से जुड़कर और दर्जनों पुस्तक लिखकर झारखंड आंदेलन को नई दिशा देने का काम किए ।

आज रांची विश्वविद्यालय में क्षेत्रीय एव जनजातीय भाषा विभाग इन्ही की देन है। श्रद्धांजलि कार्यक्रम को राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद ,जिला सचिव भुवनेश्वर केवट ,राज्य कमेटी सदस्य मोहन दत्ता, रांची नगर की सचिव नंदिता भट्टाचार्य, शांति सेन आईती तिर्की, छात्र नेता नौरीन अख्तर, तरुण कुमार ,अमानत आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।

 1,516 total views,  2 views today