“पहले हिसाब किताब- फिर ट्रांसफर होगा” ऐसा बयान जिसने यूपी की सियासत मे भूचाल आ गया

Views: 26
5 0

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लगभग खत्म होने वाला है इसी दौरान मुख्तार अंसारी के बड़े बेटे अब्बास अंसारी ने एक ऐसा बयान दिया जिसने यूपी की सियासत में एक अलग गर्माहट पैदा किया।

दरअसल वह बयान यह है कि पहले हिसाब किताब होगा फिर ट्रांसफर होगा उन्होंने अपने 1 मिनट के पूरे भाषण में यह दर्शाया की जिन पदाधिकारी की अभी पोस्टिंग है उनको पहले हिसाब किताब देना होगा फिर उसके बाद 6 महीने के अंतराल में अलग जगह ट्रांसफर या पोस्टिंग होगा इसी बयान ने पूरे उत्तर प्रदेश की सियासत को गरमा दिया और अलग-अलग राजनेताओं के अलग-अलग बयान आ रहे हैं।

अपने इस भाषण में इन्होंने आगे कहा कि- ” हम बाहुबली हैं। हमें इससे कोई गुरेज नहीं है। मेरे नौजवान साथियों की तरफ कुछ बैल सींग निकाल कर खड़े हैं। समय आने दीजिए खूंटे में यही नहीं बांध दिया तो कहिएगा।”

 

” अखिलेश यादव से मैंने कहा था कि पहले जिन लोगों ने मुकदमे लगाए हैं उनकी भी जांच पड़ताल कर लिया जाए। पिछली सरकार में सरकार को खुश करने के लिए खास तौर पर कुछ अधिकारियों ने अपनी कुर्सी और अपने पद का गलत इस्तेमाल किया है और जनता को प्रताड़ित किया है और उस जनता की आवाज है कि इसकी जांच हो और जो इसमें गलत पाए जाएंगे उनके ऊपर कार्रवाई होनी चाहिए। तभी आगे के लिए मैसेज होगा कि कोई अपनी पद की गरिमा को तार-तार ना करते हुए जनता के साथ कोई नाइंसाफी ना करे।