राष्ट्रीय मानवाधिकार सर्वेक्षण की तरफ से वर्चुअल मीटिंग!

कटिहार। (अहमद हुसैन कासमी) राष्ट्रीय मानवाधिकार सर्वेक्षण की तरफ से वर्चुअल मीटिंग की गई जिसमे बिहार उत्तरप्रदेश महाराष्ट्र उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष तथा सभी प्रदेश प्रमण्डल, और सभी जिलों के पदाधिकारियों एव सदस्यों ने भाग लिए।

 

बैठक की अध्यक्षता श्री शमशाद अली सिद्दीकी प्रदेश अध्यक्ष बिहार ने किया बैठक मे मुख्यवक्ता श्री अटल बिहारी बजाज राष्ट्रीय मुख्यालय प्रभारी ने कहा की देश मे अपहरण बाल मजदूरी बाल विवाह भर्ष्टाचार, घूसखोरी. मजदूरो से काम कराकर समय पर मजदूरी न देना इत्यादि समस्याओ का सामना करना पर रहा है।

राष्ट्रीय मानवाधिकार सर्वेक्षण पूरे देश मे इन सारी समस्याओ का समाधान के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार सर्वेक्षण का हर एक सदस्य और पदाधिकारी अपने अपने जिले मे निः सवार्थ भाव से न्याय दिलाने की काम करें बैठक मे उतर प्रदेश संगठन सचिव श्री राधेश्याम कमलापुरी मो जोसिम उपाध्यक्ष बिहार प्रदेश बिहार प्रदेश संगठन सचिव श्री राकेश मोहन झा, बिहार संयुक्त सचिव श्री राजेश कुमार झा और प्रदेश सचिव श्री आदित्य आनन्द ने भी संगठन की विस्तार एव मजबूती पर जोड़ दिया।

 

बिहार प्रदेश अध्यक्ष शमशाद अली सिद्दीकी ने कोरोना जैसी महामारी से बचाव के लिए मास्क लगा कर घर से निकलने तथा दो गज की दुरी बना कर समाज के लोगो के बीच जाकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने एव आत्म विश्वास कायम करने की बात कही!
वैठक मे मो जोसिम उपाध्यक्ष बिहार प्रदेश, श्री भोला प्रसाद महतो. प्रमण्डल अध्यक्ष पूर्णिया ने भी सदस्यों एव पदाधिकारीयों को सम्बोधित किया

क्या हैं मानवाधिकार आयोग ?

परिचय मानव अधिकार विश्व भर में मान्य व्यक्तियों के वे अधिकार हैं जो उनके पूर्ण शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक विकास के लिए अत्यावश्यक हैं इन अधिकारों का उदभव मानव की अंतर्निहित गरिमा से हुआ है। विश्व निकाय ने 1948 में मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा को अंगीकार और उदघोषित किया।

 

 

 90 total views,  2 views today